एक्जीक्यूटिवों के लिये प्रबधंन में अंर्तराष्ट्रीय कार्यक्रम

एग्जेक्युटिव के लिये प्रबन्धन में अन्तर्राष्ट्रीय कार्यक्रम (आई. पी. एम. एक्स)

एग्जेक्युटिव एम बी ए, (आई पी एम एक्स)चौथा, पूर्ण कालिक, एक वर्षीय आवासीय कार्यक्रम अप्रेल 2011 में आई आई एम लखनऊ के नोएडा परिसर में प्रारम्भ होगा। एग्जेक्युटिव के लिये प्रबन्धन में अन्तर्राष्ट्रीय कार्यक्रम मध्य/ वरिष्ठ स्तर के पेशेवरो के लिये उन्हे नेतृत्वकारी भूमिकाओं के लिये तैयार करने के लिये किया गया है। इस कार्यक्रम की परिकल्पना व्यावसायिक शिक्षा को विकसित करने के लिये की गयी है जो कि भारतीय व अन्तर्राष्ट्रीय व्यावसायिक वातावरणो की जान है। यह व्यवसाय की समझ को कार्यकारी तथा रणनीतिक स्तर पर बेहतर बनाएगा तथा विद्यार्थियों को वैश्विक व्यवसाय में सन्लग्न उद्यमियो को प्रबन्धित करने के लिये तैयार करेगा, ये कार्यक्रम उद्योगो से परिचय के साथ, कार्य आधारित शिक्षण परियोजनाओं के माध्यम से व्यावहारिक कौशल को प्रदान करेगा। इस कार्यक्रम का एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटक है, यूरोप/ पूर्वी एशिया में स्थित हमारे ही एक सहयोगी सस्थान में अन्तर्राष्ट्रीय मॉड्यूल है जो कि विद्यार्थियों को वर्तमान वैश्विक व्यावसायिक परिद्रशय की सम्भावनाओं व ज्ञान के साथ कदम मिलाने के लिये एक अन्तर्राष्ट्रीय शिक्षण अनुभव का एक अवसर प्रदान करेगा । यह कार्यक्रम स्फूर्तिदायक तथा उत्साहजनक होगा क्योकि यह जिज्ञासा तथा अन्त:द्रश्टि के माध्यम से एक पारस्परिक शिक्षण वातावरण में व्यक्तित्व विकास तथा व्यावसायिक प्रगति के लिये व्यापक अवसर प्रदान करेगा । नोएडा के व्यावसायिक तथा वाणिज्यिक गतिविधियो का एक केन्द्र होने की वजह से नोएडा परिसर में स्थानीय लाभ भी शिक्षण प्रक्रिया का विस्तार करने में सहायक होगे जहाँ उद्योग सम्बन्धी कार्य तथा वास्तविक प्रबन्धन विचार पाठ्यक्रम के एक महत्वपूर्ण अंश का निर्माण करेंगे। वितरण सर्वश्रेष्ठ प्रक्रियाओं, एक एकीक्रृत रणनीतिक परिपेक्ष्य, परियोजना कार्य तथा उद्योगों के साथ निरन्तर सम्पर्क के प्रति निर्धारित होती है। संस्थान का व्यावसायिक संवाद केन्द्र गैर-प्रायोजित विद्यार्थियों के लिये नौकरी की सुविधाओं को प्रदान करेगा।

कार्यक्रम के उद्देश्य

कार्यक्रम का मूल उद्देश्य है विद्यार्थियो की पेशेवर प्रगति में वृद्धि के लिये मुख्य प्रबन्धीय क्षमताओं का विस्तार करना। कार्यक्रम के मूल उद्देश्य हैं:

  • आधुनिक व्यावसायिक संस्थानो के प्रभावी प्रबन्धन के मूलभूत सिद्धान्तो को विद्यर्थियों को प्रदान करना।
  • सामाजिक व आर्थिक क्रम तथा व्यवसाय सन्चालन की दिनो दिन विकसित होती वैश्विक प्रवृत्ति में व्यवसाय प्रबन्धको की भूमिका व दायित्व की समझ का विस्तार करना।
  • व्यवसाय के जटिल परिपेक्ष्य में प्रभावी निर्णय क्षमता के लिये विशलेषणात्मक तथा नैदानिक कौशल को और भी बेहतर बनाना।
  • विद्यार्थियों को सांस्कृतिक वैविध्यता के प्रति जागरूक करना तथा बहु- सांस्कृतिक कार्य वातावरण के साथ प्रभावी प्रबन्धन के लिये कौशल का विकास करना।
  • कुशल नेतृत्वशीलता तथा समूह में कार्य करने की आदत का विकास करना।

Top